My NU

My NU

मेरा NU

अनादि अनंत – जिसकी कोई शुरुआत नहीं, जिसका कोई अंत नहीं – ऐसी सोच के साथ जहाँ बाँटा जाता है ज्ञान |

जहाँ सूर्योदय से सूर्यास्त है दिखता, जहाँ चिड़ियों की आवाज़ से होती है सुबह की शुरुआत, जहाँ राजस्थान की गर्मी नहीं बल्कि ठंडी हवाओं से ख़त्म होती है दिनचर्या |

जहाँ मैंने देखे अपनी ज़िन्दगी के कई सपने, पूरे किये कुछ अरमान अपने, जहाँ लेती है कला जन्म, अरावली के पहाड़ों की गोद में समाई – कहते हैं उसे “NIIT UNIVERSITY”.

अपने नज़रिये को कैद किया कुछ तस्वीरों में, और दिखाया सारी दुनिया को – ऐसा कुछ है सीखा मैने अपने फोटोग्राफी क्लब से |

खुद पर जो बीती वो किसी और पर न बीते, किये कई नुक्कड़ नाटक, किया नई सोच का आग़ाज़, “सुन लो मेरे बहनो भाई, रंगमंच की टोली आयी” यह कहते हुए बीते ज़िन्दगी के कुछ खूबसूरत साल,

पढ़ना सीखा सामने वाले की आँखों को, जाने दूसरों के भी दुख – बना एक नया परिवार कहते हैं जिसे रंगमंच NU.

अपनी संस्कृति को कभी मत भूलना, कहना था जिसका सिर्फ यही – ले गया बनारस दिखाई बहुत ही अद्भुत चीजें, वो शाम की गंगा आरती, वो नाव पर बैठ कर संगीत सुनना, ज़िंदा रक्खी वो मिट्टी की खुशबू, जो भी कुछ कर सकते थे, सब कुछ किया हमारे TALF (The Asian Lenses Forum) ने |

कहने को तो बहुत सी यादें हैं, लिखने बैठुंगी तो एक किताब बन जाएगी, लेकिन यह सोचते सोचते लिखी मैंने भी कुछ छोटी छोटी कहानियाँ, और बन गई मेरी भी एक सपनों की परिभाषा, कहते है जिसे “भोर से सांझ” |

भोर से सांझ को लिखा मैने कभी उस हरी भरी घास पर बैठ कर, तो कभी अस्ताचल पर बैठ कर, जहाँ से दिखती थी मुझे हर दिन की शाम |

ज़िन्दगी के कीमती लम्हें मेरे कॉलेज की वजह से मैने थाईलैंड में भी बिताए, कुछ नए रिश्ते बनाए, कुछ नन्हें बच्चों के दिल में जगह बना ली – वहाँ ले गया मुझे AIESEC NU.

इन्हीं कुछ छोटी छोटी कड़ियों से शुरू हुई थी एक सफर की कहानी

जो ख़त्म हुई पिछले ही साल और बना गई मुझे इंजीनियर रानी |

वक़्त मिलेगा तो जाइयेगा जरूर, थोड़ा पहाड़ों पर घूम कर आना, ठंडी हवा का मज़ा लेकर आना, मेस का वो स्वादिष्ट खाना खा कर आना, वक़्त मिले तो मेरा एक पौधा है वहाँ जो मैंने लगाया था, उसका नाम है “एंजेल” उसे पानी दे आना, और अगर मन करे तो कुछ नए दोस्त बना आना |

अपूर्वा गर्ग

BTech २०१४ – २०१८

1224total visits,6visits today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *